Saturday, March 23, 2019

मोदी ने वास्तव में बर्बाद कर दिया


दिल बार-बार रस्सी तोड़कर भागने की कोशिश कर रहा है, कभी कहता है कि यह लिख और कभी कहता है कि वह लिख! चारों तरफ विषय बिखरे पड़े हैं लेकिन सारी मशक्कत बेकार सी लग रही है। ऐसा लग रहा है जैसे किसी भरे पेट वाले के सामने भोजन परोसने का प्रयास किया जा रहा हो। राजनीति में लोग आकंठ डूबे हैं, चारों तरफ से एक ही आवाज आ रही है कि हमें "सबका साथ – सबका विकास" ही करना है। लेकिन दूसरी तरफ से एक आवाज और आ रही है कि हम तुम्हारे माई-बाप रहे हैं, हमें फिर से देश का माई-बाप बनाओ। लोग तराजू के पलड़े में झूल रहे हैं, माई-बाप के टुकड़ों पर पलें या सबका साथ-सबका विकास के साथ आत्मनिर्भर बने? एक मन करता है कि अजगर करे ना चाकरी, पंछी करे ना काज, दास मलूका कह गये, सबके दाता राम, इस बात पर चलकर माई-बाप के टुकड़ों पर पलने में क्या बुराई है! इस कहावत में राम की जगह अल्लाह लगाने को भी तैयार हैं, लेकिन मन के एक कोने से दबी सी आवाज आती है कि नहीं, मुझे स्वाभिमान के साथ जीना है। मन तभी चिंघाड़ता है कि नहीं होगी मुझ से ईमानदारी! मैं जन्म-जन्मान्तर से आकण्ठ बेईमानी में डूबा रहा हूँ, अब कौन भला मुझे ईमानदारी की रोटी की सीख दे रहा है! क्यों हिन्दुस्थान, पाकिस्तान किया जा रहा है? भला बेईमान को किसने रोका है, यह तो हर युग में फला-फूला है। क्या औरंगजेब के काल में हम बेईमान मर गये थे? मरते और टूटते तो पत्थर के भगवान है, औरंगजेब ने सारे ही भगवानों को नेस्तनाबूद कर दिया था लेकिन  हम जैसे बेईमानों और चाटुकारों को तो खूब इज्जत बख्शी थी। आप नहीं मान रहे हैं मेरी बात! क्या कह रहे हैं? आपको प्रमाण चाहिये! अभी देखा नहीं कि पाकिस्तान ने कैसे सिद्धू, अय्यर, राहुल जैसे चाटुकारों के लिये पलक-पाँवड़े बिछाये थे जबकि अपने जन्म के साथ ही उसका एक ही मंसूबा रहा है कि हिन्दुस्थान को मटियामेट करना है और अखण्ड पाकिस्तान का निर्माण करना है। भई वह पाकिस्तान ही बनाएगा ना! हमें क्या! हम तो जन्मजात बेईमान और चाटुकार लोग हैं, हमें तो वहाँ भी कठिनाई नहीं होगी, सच पूछो तो हमें यहाँ घुटन हो रही है। ईमानदारी से जीना हमें रास नहीं आ रहा है और सबसे खराब बात तो यह है कि गरीब आदमी भी हमारे सामने छाती चौड़ा करके खड़ा हो जाए यह तो हम देख ही नहीं सकते। सब कुछ बर्बाद कर दिया है मोदी ने। घोड़ों और गधों को बराबर करने का प्रयास किया जा रहा है। अब यदि सभी अपने  पैरों पर खड़े हो गये तो हमारी सेवा कौन करेगा?
सभी के बैंक अकाउण्ट खुलवा दिये, साहूकारों पर कितना जुर्म है! हम सदियों से भरपूर ब्याज लेकर इन्हें लूटते आये थे। हर गाँव में साहूकार यह सेवा देता रहा है, हमें ही जनता माई-बाप मानती रही है और आज कहा जा रहा है कि तुम अपने माई-बाप खुद ही हो! सबको एक कार्ड थमा दिया है, एक नाचीज की भी पहचान हो गयी, कल तक केवल हमारी ही पहचान थी! सबकुछ बर्बाद कर दिया मोदी ने। इतनी चमचमाती सड़कें भला कोई बनाता है क्या? हर गाँव वाले ने मोटर सायकिल ले ली! गरीबी हटाओ का नारा केवल दिया जाता है, वास्तव में कोई हटाता है क्या! सब कुछ बर्बाद कर दिया मोदी ने। क्या-क्या लिखूँ, कैसे लिखूं! कल तक मंहगाई का रोना रोकर जीतते आए थे, आलू-प्याज की कद्र ही नहीं रही! पेट्रोल भी बेभाव मारा गया! टमाटर का रोना पाकिस्तान को भेज दिया! पाकिस्तान के नाम से याद आया, अब हमारे सैनिक भी घुस जाते हैं और मार आते हैं, कबड्डी-कबड्डी का खेल रोज ही खेल आते हैं और जब वे कबड्डी बोलने की सोचते भी हैं तो सीमा रेखा पर ही दबोच लेते हैं। हम जनता को अब पाकिस्तान के नाम से भी डरा नहीं पा रहे हैं, हमने कई नेता पाकिस्तान में ही तैनात कर दिये, न जाने कितने पत्रकार उनकी भाषा बोलते-बोलते थक गये हैं लेकिन मोदी ने ऐसा बर्बाद किया है कि अब पाकिस्तान का नाम लेने से भी डर लगने लगा है। हमने न जाने कितने रिश्ते पक्के कर रखे थे, कितनी बेटियों के दामाद ढूंढ रखे थे लेकिन अब वहाँ कंगाली छायी है तो क्या करेंगे रिश्ता कर के! मोदी ने वास्तव में बर्बाद कर दिया।

4 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (24-03-2019) को "चमचों की भरमार" (चर्चा अंक-3284) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

सुशील कुमार जोशी said...

:) अभी बहुत कुछ बचा है।

शिवम् मिश्रा said...

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 23/03/2019 की बुलेटिन, " वास्तविक राष्ट्र नायकों का बलिदान दिवस - २३ मार्च “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Udan Tashtari said...

मदारी आया,तमाशा लाया :)