Thursday, September 11, 2014

अमेरिका में भारतीयों का खानपान

भारत के प्रत्‍येक शहर में एक ऐसा चौक या गली जरूर होगी जहाँ चाट खाते हुए लोग मिल जाएंगे। अभी तो प्‍लेटों का जमाना आ गया है लेकिन अभी कुछ दिन पूर्व तक पत्ते पर चटपटी चाट खाने का आनन्‍द ही कुछ और था, उस पर लगी चटनी को अंगुलियों से चाटने का या फिर पत्ते को जीभ से चाटने का स्‍वर्गीय आनन्‍द ही कुछ और रहा है।
पोस्‍ट को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - http://sahityakar.com/wordpress/%E0%A4%85%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A5%80%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%96/

4 comments:

दिगंबर नासवा said...

पाता नहीं क्यों आपके ब्लॉग खुल नहीं रहा है ... कोई वाइरस थ्रेट आ जाती है हर बार ... चेक करें ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

धन्यवाद बहन डॉ.अजित गुप्ता जी

अजित गुप्ता का कोना said...

नासवा जी, मोबाइल से मुझे भी महसूस हुअा लेकिन कम्‍प्‍यूटर पर खुल रहा है।

Sanju said...

बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
बधाई मेरी

नई पोस्ट
पर भी पधारेँ।