Thursday, December 14, 2017

सच के दो चेहरे – मुक्ति भवन फिल्म की पड़ताल

कई दिनों से मुक्ति भवन की कहानी दिमाग में घूम रही है, न जाने कितने पहलू पर विचार किया है, किसके क्या मायने हैं, समझने की कोशिश कर रही हूँ। इसी उधेड़बुन में अपनी बात लिखती हूँ, शायद हम सब मिलकर कोई नया अर्थ ही ढूंढ लें। एक फिल्म बनी है – मुक्ति भवन, वाराणसी पर है। सच्ची कहानी पर बनी है कि कैसे लोग मोक्ष की चाहना में अपने अन्तिम दिनों में वाराणसी के मुक्ति भवन में रहने चले जाते हैं और वहीं से अपनी अन्तिम यात्रा पर चले जाते हैं। एक तरफ प्रबल आसक्ति है मोक्ष की और दूसरी तरफ प्रबल विरक्ति है इस जीवन से। हमारे देश में कहा जाता है कि काशी वह जगह है जहाँ मृत्यु होने पर मोक्ष मिलता है। लोग इसी आसक्ति में अपनी अन्तिम दिनों में वाराणसी के मुक्ति भवन में चले जाते हैं। यह मुक्ति भवन 100 सालों से न जाने कितने चाहने वालों को परमधाम भेज चुका है, वाराणसी वाले लोग ज्यादा बता पाएंगे।
एक बार वृन्दावन में एक दम्पत्ती मिल गये थे, यह संस्मरण मैंने पहले भी लिखा है, वे बोले कि हम यहाँ मरने के लिये पड़े हैं। मुझे यह बात कुछ-कुछ समझ आयी लेकिन अभी फिल्म देखकर पूरी बात समझ आ रही है। हम साक्षात देखते हैं कि हमारे अन्दर जीवन के प्रति कितनी आसक्ति है, कितनी ही आयु हो जाए लेकिन मरना कोई नहीं चाहता। लेकिन मोक्ष की आसक्ति जीवन की असक्ति से कहीं बड़ी बन जाती है और हम इस जीवन को शीघ्रता से त्याग देना चाहते हैं। ऐसे लोग जीवन से, परिवार से इतने विरक्त हो जाते हैं कि कोई भी मोह उन्हें परिवार से जोड़ नहीं पाता है, बस दूर होते चले जाते हैं। सबसे बड़ी बात है कि हम अपने अहम् से भी दूर चले जाते हैं, सुख-सुविधाओं से भी दूर चले जाते हैं। जिस अहम् के लिये हम सारा जीवन राग-द्वेष पालते हैं, सुख-सुविधा जुटाते हैं उसे त्याग देना इतना आसान भी नहीं है लेकिन मोक्ष की आसक्ति भी इतनी प्रबल है कि अहम् भी कहीं पूछे छूट जाता है, अपनी आत्मा का मोह भी छूट जाता है और शेष रह जाती है परमात्मा में विलीन होने की चाहत।

मुक्ति भवन पर फिल्म क्यों बनी? क्या दुनिया को भारत की सोच दिखाने का प्रयास था या यहाँ की विभस्तता। कैसे लोग अन्तिम दिनों में पुराने जर्र-जर्र भवन में एकान्तवास काटते हैं, इसके दोनों ही पहलू हो सकते हैं। दुनिया को यह संदेश दिया जा सकता है कि आज भी कैसे मणिकर्णिका घाट जीवन्त है और मोक्ष की आस्था का स्थल बना हुआ है। या फिर वृद्धावस्था की विभिषिका दिखाकर एक कुरूप चेहरा दिखाने का मन हो। जो भी है, लेकिन सच्चाई तो है, हमारा त्याग समझने के लिये बहुत समय लगता है। सिकन्दर भी इस त्याग को समझने के लिये भारत आया था, लेकिन समझ नहीं पाया था, फिल्मकार कितने समझे हैं और कितना भुनाने की कोशिश में है, यह तो वहीं जाने लेकिन मुझे जरूर सोचने पर जरूर मजबूर कर गया। मोक्ष की आसक्ति भी नहीं रखे और बस एकान्त में सभी को भूलकर अपना जीवन प्रकृति के साथ आत्मसात करते हुए बिताने का सुख जरूर मन में है। इस जीवन में कैसे-कैसे समझौते हैं, अपने मन से दूर ले जाने के कैसे-कैसे तरीके हैं, लेकिन अपने मन के पास रहने के लिये बस एक ही तरीका है, अपने मन के साथ एकान्त में जीवन यापन। काश हम भी उस दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ कोई फैसला ले पाएं और प्रकृति के साथ घुलमिल जाएं। काश!

Tuesday, December 5, 2017

मेक्सीकन जरूरत भी हैं और चुनावी मुद्दा भी


नेता बनने के लिये एक मुद्दा चाहिए, बस ऐसा मुद्दा जो जनता को भ्रमित करने की ताकत रखता हो, बस ऐसा मुद्दा ढूंढ लीजिये और बन जाइए नेता। अमेरिका में भी भारत की तरह ही मुद्दे ढूंढे जाते हैं। भारत में मुम्बई में कहा गया कि यूपी-बिहार के लोगों के कारण मराठियों की शान में बट्टा लगता है और मराठियों के लिये बड़ा मुद्दा बन गया। जब कि असलियत में बिहारी और यूपी के भैया उनके लिये कामगार हैं और सभी उनकी सेवा चाहते हैं लेकिन मुद्दा बन गया। हम मराठी बड़े हैं और यूपी-बिहार के लोग हमारी शान में गुस्ताखी कर रहे हैं।  बड़े होने का दिखावा हर बार मुद्दा बन जाता है। कई बार आरक्षण का मुद्दा भी ऐसे ही बनता है कि हम भी आरक्षण पाते ही विशेष जाति वर्ग के दिखायी देने लगेंगे और गुजरात में मुद्दा बन गया, राजस्थान में भी बनने की ओर है। लेकिन मैं बात अभी अमेरिका की कर रही हूँ, यहाँ के मुद्दे की कर रही हूँ। ट्रम्प को नेता बनना था, उन्होंने मुद्दा बनाया मेक्सिकन को। जैसे हमारे यहाँ बंगलादेशी मुद्दा बना हुआ है लेकिन दोनो बातों में अन्तर है फिर भी मुद्दा तो है।
अमेरिका में आपको हर घर में मेक्सिकन लोग काम करते दिख जाएंगे। दिखने में भारतीयों के ज्यादा नजदीक हैं लेकिन कुछ गोरे हैं तो यहाँ के लोगों के बीच घुलमिल जाते हैं। लेकिन अमेरिकन्स को लगता है कि ये हमारे यहाँ बदनुमा दाग है और ये कैसे अमेरिकन्स की समानता कर सकते हैं! मेक्सिकन्स अधिकतर गरीब हैं और छोटे काम करते हैं लेकिन इनसे किसी प्रकार का खतरा नहीं है। सीधे लोग हैं, मेहनती लोग हैं, जैसे मुम्बई में यूपी-बिहार से दूर रहने की हिदायत कुछ नेता करते हैं और यहाँ भी इस बार के चुनाव का मुद्दा बन गया। ट्रम्प ने तो यहाँ तक कह दिया कि मैं मेक्सिको और अमेरिका के बीच दीवार खिंचवा दूंगा। लेकिन जब ट्रम्प नेता बन ही गये और राष्ट्रपति भी बन गये, तब दीवार की बात बार-बार उठती है। शेखचिल्ली की तरह मुद्दा तो बना दिया लेकिन पूरा करना असम्भव बन गया है। सच तो यह है कि कहने की बात कुछ ओर होती है और करने की कुछ ओर। यदि मेक्सिकन्स को निकाल दिया जाए तो मुद्दे की तरफदारी करने वाले लोगों को ही कठनाई हो जाएंगी। बड़ी मुश्किल से तो ये छोटे कामकाजी लोग अमेरिका को मिले हैं और अब इन्हें कैसे निकल जाने दें!

हमारे यहाँ बच्चे को रखने के लिये नैनी आयी, उसने बताया कि हम यहाँ के नागरिक बन चुके हैं। वह  बता रही थी कि 15 साल पहले हम आए थे और 5 साल बाद ही हमें ग्रीन-कार्ड मिल गया और उस समय थोक के भाव लोगों को ग्रीन-कार्ड मिले। फिर 5 साल बाद नागरिकता। क्यों मिल गयी, इतनी जल्दी? क्योंकि सभी देशों को छोटे कामगार चाहिये। साहब लोगों के लिये काम करने के लिये, होटलों में, टेक्सी के लिये और ना जाने कितने कामों के लिये। हम भारतीय जो यहाँ अमेरिका में रहते हैं, उनको ये ही लोग रहने देते हैं। ये ही हैं जिनके कारण अमेरिका में वो सब मिलता है जो हमें भारत में आदत होती है। हर प्रकार का खाना इन्हीं लोगों के कारण मिलता है। आज घर-घर में सस्ते दामों पर मेक्सीकन लोग काम करते दिख जाएंगे। इसलिये चुनाव में मुद्दा कुछ भी बना लो, अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लो, लेकिन सच तो यह है कि ये छोटे कामकाजी लोग चाहे वे मेक्सीकन हो या फिर भारतीय, उन्हीं से ही अमीर लोगों की रईसी दिखायी देती है। लेकिन प्रश्न यह है कि जब यहाँ अफ्रीकन मूल और एशिया के इतने लोग हैं तो मुद्दा केवल मेक्सीकन ही क्यों बना? मुझे लगता है कि उनकी शारीरिक बनावट ही कारण रहा होगा, क्योंकि वे भी गोर वर्ण ही हैं। अमेरिकन्स या गोरे लोगों को लगता होगा कि ये हम गोरों को नीचा दिखा रहे हैं। एक और मजेदार बात है कि यहाँ अमेरिकन कौन है, यह बात कोई नहीं जानता। जो असली अमेरिकन है उन्हें रेड-इण्डियन कहा जाता है और वे संख्या में बहुत कम है, शेष तो यूरोप के लोग हैं जो खुद को अमेरिकन कहलाते हैं। रंग के कारण अपनी पहचान बना लेते हैं, जो भी गोरे हैं फिर वे कहीं के भी हों, लोग उन्हें अमेरिकन कह लेते हैं लेकिन बेचारे भारतीय कभी भी अमेरिकन नहीं कहला पाते। बस यही मात खा जाते हैं। और मेक्सीकन छोटे कामकाजी होने के कारण मुद्दे के शिकार। खैर चुनावी मुद्दा कुछ भी रहा हो, यहाँ मेक्सीकन्स की उपस्थिति सब ओर है। सब इनके काम से खुश हैं और इनकी हर ओर जरूरत महसूस होती है। यूरोपियन्स कितना ही नाक-भौंह सिकोड़ लें लेकिन इनके बिना काम करने वाले दूसरे मिल भी नहीं सकते। बस यह मुद्दा बन गया है तो मुद्दा ही रहेगा और चुनावों में उछलता रहेगा।

Wednesday, November 29, 2017

ब्लेक फ्राइडे पर खरीददारी

थैक्स गिविंग गुरुवार को और ब्लेक फ्राइडे दूसरे दिन। पता नहीं ब्लेक क्यों कहा गया, शायद उस दिन भारी छूट के साथ बाजार खुलता है इसलिये या कुछ और पता नहीं। हम भी बाजार गये, दिन में 10 बजे निकले और उस मॉल में गये जहाँ कम भीड़ की सम्भावना थी। कम भीड़ कहाँ होगी, जहाँ छूट कम होगी। खैर हम भी जा पहुंचे एक मॉल में। गाडी को पार्किंग के लिये जगह चाहिये और हमारी गाडी घूमती रही, घूमती रही। आधा घण्टा बीता, फिर पोन घण्टा भी बीत गया लेकिन पार्किंग नहीं। गाडी को दूसरी ओर लेकर गये तब जाकर किस्मत का दरवाजा खुला और आखिर पार्किंग मिल ही गयी। इससे आप समझ गये होंगे कि कितनी भीड़ का सामना हम करने वाले थे! हमें डायमण्ड खरीदने का शौक चर्राया, देख ही लें कि यहाँ और हमारे देश में क्या अन्तर है। हमारे देश में तो दीवाली पर जौहरी की दुकानों पर कुछ ना कुछ ऑफर रहते हैं तो सोचा यहाँ भी होंगे लेकिन यहाँ कुछ नहीं था। सामान भी ज्यादा कुछ नहीं और छूट भी नहीं तो क्या खाक खरीददारी करें! हमारे दुकान से बाहर निकलते ही बेटे ने राहत की सांस ली होगी कि चलो मम्मी को कुछ पसन्द नहीं आया। हम फिर कपड़ों की दुकान की ओर मुड़े, देखा कुछ दुकानों पर बाहर ही लम्बी लाइन लगी है, यहाँ तो जाना सम्भव नहीं, आगे बढ़ गये। एकाध दुकान ऐसी थी जहाँ कतारे नहीं थी, हम वहीं गये। कहीं 50, कहीं 40, कहीं 30 तो कहीं 20 प्रतिशत की छूट थी। सारी ही मॉल गर्म कपड़ो से भरी थीं। कुछ समझ आया और कुछ नहीं, बस थोड़ा समय व्यतीत किया और लौट आए। दो चार स्वेटर खऱीदे बस।
वापस लौटते समय देखा कि घर लौटने  वाली सड़क खाली और बाजार की तरफ जाने वाली सड़क ठसाठस भरी हुई। यहाँ इस दिन से ही क्रिसमस की खरीददारी शुरू हो जाती है और क्रिसमस पर परिवार में सभी को उपहार देने की परम्परा है तो भारी छूट के साथ सभी खरीददारी करना पसन्द करते हैं। कुछ लोग तो साल भर की खरीददारी इन्हीं दिनों कर लेते हैं। हमारे भारतीय भी इन्हीं दिनों का इंतजार करते हैं कि देश के लिये उपहार अभी खरीदें। सारा बाजार चाइना के सामान से भरा था, ब्राण्ड कोई भी हो, सामान तो चाइना का ही था। हमने जितने भी स्टोर पर स्वटेर देखे, सारे ही एक से थे। लग रहा था कि मॉल चाहे किसी नाम के हो लेकिन एक ही फेक्ट्री से बना सामान यहाँ है। भारत में सर्दी के दिनों में बाजार शॉल से अटे पड़े रहते हैं लेकिन यहाँ इनका नामोनिशान नहीं था, हाँ कुछ स्टॉल जरूर थे। मफलर और केप खूब थे। भारी-भारी कोट जिसमें बर्फिली सर्दी भी थम जाए, खूब बिक रहे थे, लेकिन भारत जैसी जगह के लिये पतले-पतले स्वेटर ही काफी थे।

यहाँ का सबसे बड़ा त्योहार है – क्रिसमस और यह थैंक्स गिविंग के दूसरे दिन से ही शुरू हो जाता है। सारा शहर रोशनी से सजने लगता है। घरों के बाहर तरह-तरह की आकृतियां सजने लगती हैं। ऐसा कोई घर नहीं जहाँ रोशनी ना हो। यह रोशनी सवा महिने तक बनी रहेगी। घर-परिवार, रिश्तेदार और सभी मिलने वालों के लिये उपहार खरीदे जाएंगे और एक महिने का यहाँ समय फुल मस्ती के साथ व्यतीत करेंगे। ऑफिसों में छुट्टी का माहौल बना रहता है और अक्सर भारतीय भी अपने देश आने के लिये इन्हीं दिनों में छुट्टियां लेते हैं। लेकिन परिवार सहित हम अमेरिका में रहने वाले हैं और रोज का आँखों देखा हाल आपको सुनाने वाले हैं। बस एक बात का ध्यान रखिये की हम संजय की भूमिका में है, जो सामने है, उसे बता रहे हैं, इसे हमारी पसन्द और नापसन्द से ना जोड़े। जब अवसर अएगा हम वह भी विश्लेषण करेंगे। अभी तो केवल रनिंग केमेण्ट्री। 

Friday, November 24, 2017

थैंक्स गिविंग और परिवार का एकत्रीकरण

आज नवम्बर मास का चौथा गुरूवार है और अमेरिका में इस दिन त्योहार का मौसम होता है। पूरे अमेरिका में छुट्टी का दिन। कल तक हर व्यक्ति यात्रा कर रहा था, उसे आज के दिन अपने परिवार के साथ रहना है। सारा परिवार एक साथ रहेगा, शाम का डिनर साथ करेगा और फिर बाजार करेगा। बाजार में भारी छूट मिलेगी और इसी कारण कल के शुक्रवार को ब्लेक-फ्राइडे कहा गया है। सारी दुनिया में फसल का ही महत्व है, फसल नहीं तो मनुष्यों के लिये खाने को कुछ नहीं। फसल जब पक जाती है तब सारी दुनिया में त्योहार मनाया जाता है और अमेरिका में भी थैंक्स-गिविंग के रूप में मनाया जाता है। भारत में सारे त्योहार ही फसल के कारण है लेकिन अमेरिका में फसल के कारण आभार जताने का त्योहार है, जो प्रकृति की देन को प्रणाम करने जैसा है। आज यहाँ पूरा बाजार बन्द है लेकिन रात 12 बजे बाजार सजेगा और भारी छूट के साथ सामान बिकेगा। बाजारों में रात 12 बजे से ही कतारें लग जाएंगी, कहीं-कहीं तो पहले आने वालों को भारी छूट भी मिलती है तो रात से ही अफरा-तफरी रहती है।

सबका मन करता है परिवार में रहने को, सब आज के दिन अपने परिवार के साथ रहना चाहते हैं, मुझे दीवाली की याद आने लगी है, जब श्रीराम अपने परिवार के पास लौटे थे और फिर परिवार में इस दिन साथ रहने की परम्परा ने जन्म लिया। हमारे यहाँ की रेले, बसे, हवाई-जहाज सारे ही पेक होकर चलते हैं दीवाली के दिन और यहाँ भी इत दिन हवाई-जहाज में टिकट नहीं मिलती और लोग अपनी गाड़ियों से ही अपने घर आते हैं। रास्ते की सड़के ठसाठस हो जाती हैं। हर घर में जश्न रहता है। थैंक्स देना अच्छी  परम्परा है और इसकी शुरुआत यूरोपियन्स ने की थी, जब वे अमेरिका आए थे और यहाँ के निवासियों ने उन्हें रहने को स्थान और खेती के लिये जमीन दी थी, तब उन्होंने थैंक्स गिविंग मनाया था। वो अलग बात है कि फिर इन्होंने लाखों अमेरिकन्स का कत्लेआम किया और यहाँ पर राज किया। लेकिन अब खेती और फसल के साथ यह त्योहार जुड़ गया है। सारा परिवार एकत्र होकर त्योहार मनाता है, बस यह परम्परा अच्छी है। यही कारण है कि परिवार का एकत्रीकरण सभी लोगों में प्रचलन में आ गया है। कल भारी छूट के साथ बाजार खुलेगा तब सारा अमेरिका बाजार में होगा, हम भी देखते हैं कि  जाएं और उस नजारे को देख लें। कल के समाचार कल देंगे, अभी इतना ही। 

रंगीन पतझड़ के नजारे

गाँव के झोपड़े सभी ने देखे होंगे, उनमें खिड़की नहीं होती है और ना ही वातायन। मुझे लगता था कि धुआँ घर में भर जाता होगा लेकिन अमेरिका आकर समझ आया कि नहीं वे झोपड़े सारी गन्दी हवा छत पर लगे केलुओ के माध्यम से बाहर निकाल देते हैं और घर शुद्ध हवा से भर जाता है। हमारे यहाँ घरों में हम एसी चलाते हैं और कुछ देर बाद घुटन सी होने लगती है, मन करता है कि बाहर की हवा अन्दर आने दें, लेकिन अमेरिका में ऐसा नहीं है। पूरा घर पेक है, कहीं से भी हवा आने की गुंजाइश नहीं है लेकिन घर में हमेशा अशुद्ध हवा बाहर निकलती रहती है और अन्दर शुद्ध हवा बनी रहती है। हर घर की छत पर चिमनी है जो घर को शुद्ध रखती है, जबकी हमारे यहाँ खिड़की है लेकिन वातायन की प्रथा बन्द होती जा रही है, इसकारण कमरे में कार्बन डाय ऑक्साइड बनी रहती है। वातायन हैं भी तो पूरी तरह से अशुद्ध हवा बाहर नहीं निकलती है।
घर बनाने में भी लकड़ी का प्रयोग ज्यादा होता है और दीवारों को इस प्रकार बनाया जाता है कि घर सर्दी और गर्मी से बचाव करते हैं। इसलिये यहाँ घर का तापमान समतापी बना रहता है। वैसे कूलिंग और हीटिंग की व्यवस्था तो रहती ही है। यहाँ का तापमान अमूमन न्यूनतम 6 डिग्री बना हुआ है लेकिन घर के अन्दर एक स्वेटर से काम चल जाता है। जबकि भारत में हम कुड़कते ही रहते हैं। यहाँ जिस दिन बारिश होती है उस दिन सूरज देवता पूरा दिन ही नदारत रहते हैं, बाहर कड़ाके की ठण्ड रहती है लेकिन घर के अन्दर गलन नहीं होती। लेकिन जिस दिन सूरज देवता की कृपा होती है, उस दिन पूरी होती है। आराम से धूप खाओ, विटामीन डी का संचय करो और मस्त रहो।

यहाँ पैदल घूमने वालों के लिये बहुत आराम है, खूब ट्रेल बनी हुई हैं, जितना चाहो घूमो, मस्त। मैंने भी एक ट्रेल खोज ली है, पहाड़ी पर है, चढ़ाई और उतार दोनों है। शान्ति से घूमने का आनन्द ले रही हूँ। बामुश्किल दो-चार लोग मिलते हैं, चारों तरफ शान्ति बिखरी रहती है। अभी सर्दी का मौसम है तो पेड़ों पर भी पत्तों ने रंग बदल लिये हैं। कुछ तो सदाबहारी है जो हमेशा हरे बने रहते हैं जैसे हमारे यहाँ नीम, पीपल आदि लेकिन कुछ के पत्ते लाल, पीले हो जाते हैं जो सुन्दर दृश्य बनाते हैं। जैसे हमारे गाँवों में जब पलाश और अमलताश खिलता है तब चारों तरफ पलाश के लाल फूल खिल उठते हैं या अमलताश के पीले फूल। उन्हें देखने का अपना आनन्द है, ऐसे ही यहाँ रंग बदलते पत्तों के देखने का आनन्द है। बस झड़ते पत्तों के कारण सड़क से लगी पगडण्डी अटी पड़ी रहती हैं और सफाई कर्मचारियों की मेहनत बढ़ जाती हैं। जब पत्ते बिखरे रहते हैं तो एकबारगी भारत की याद दिला देते हैं। वहाँ हमें बुहारना पड़ता है और यहाँ सोसायटी के बन्दे बुहारते रहते हैं। पतझड़ सूखी नहीं है अपितु रंगीन बन गयी है। इसे देखने के लिये लोग घर से दूर निकल जाते हैं जहाँ रंग ज्यादा बिखरे हों।  

Thursday, November 16, 2017

क्या युद्ध भी आत्महत्या है?


हम युद्ध क्यों करते हैं? एक देश दूसरे देश से युद्ध क्यों करता है? क्या हमें पता नहीं है कि युद्ध में मृत्यु ही प्राप्य है? यदि कोई ऐसा देश हो या छोटा समाज हो जिसकी सम्भावना जीत हो ही नहीं फिर भी वह युद्ध क्यों करता है? अपने स्वाभिमान को बचाने के लिये हम युद्ध करते हैं, मरना ही हमारी नियति है यह जानकर भी हम युद्ध करते हैं। यह गुण मनुष्य में ही नहीं हैं अपितु हर प्राणी में हैं, इसलिये हर प्राणी युद्ध करता है। अब कोई कहे कि युद्ध करना आत्महत्या है तो उसे क्या कहेंगे? उसे हम कहते हैं गुलामों की तरह जीवित रहना। युद्ध की तरह ही जौहर भी आत्महत्या नहीं है मेरे गुलाम मानसिकता के मित्रों। जौहर जब किया जाता था जब सारे ही प्रयास समाप्त हो जाते थे और पता होता था कि सामने वाला हमारा दुरूपयोग करेगा, हमसे ही ऐसे संसार की रचना कराएगा जो मानवता के लिये घातक हो, तब महारानियां जौहर करती थी। कुछ पैसों के लिये अपनी सोच को गिरवी रखने वाले जौहर को समझ ही नहीं सकते, वे जीवित रहने को ही महान कार्य समझ बैठे हैं। 

रानी पद्मिनी को समझना हो तो राजस्थान आओ और राजस्थान में भी मेवाड़ में आओ, यहाँ के कण-कण में उनके लिये नमन है। यदि उन्होंने जौहर नहीं किया होता और खुद को मुगल सल्तनत के हाथों सौंप दिया होता तो मेवाड़ का इतिहास लिखने और पढ़ने को नहीं मिलता। चित्तौड़ ने कितने युद्ध देखे हैं, क्यों देखे हैं? क्योंकि यहाँ स्वाभिमान था, जीवित रहने की लालसा नहीं थी। आज कुछ लोग या कुछ सिरफिरे लोग कह रहे हैं कि रानी लक्ष्मी  बाई महान थी, हाँ वे महान थी लेकिन जिस दिन कोई फिल्मकार उनके चरित्र को बिगाड़ने के लिये फिर फिल्म बनाएगा तब आप लक्ष्मी बाई के चरित्र पर भी ऐसे ही हमले करोगे और फिर लिखोंगे कि युद्ध करना आत्महत्या होती  है और इनसे अच्छी तो हमारी हिरोइने हैं जो हमेशा शान से जीती हैं। ये कलाकार कुछ पैसों के लिये अपना ईमान बेच देते हैं और हम इन्हें देखने के लिये मरने लगते हैं, क्या ये कलाकार हमारे परिवार पर भी घृणित फिल्म बनाएंगे तब भी हम इनको पसन्द करते रहेंगे? इसलिये जौहर क्या है और युद्ध क्या है. इसे समझो फिर अपनी मानसिकता का सबूत दो। पद्मिनी वह रानी थी जिसने युद्ध से ही रतनसिंह का वरण किया था और खिलजी की कैद से रतनसिंह को आजाद कराया था। इसलिये इस पवित्र इतिहास पर अपनी गन्दी दृष्टि मत डालो, क्योंकि तुम नहीं जानते कि जीवन का मतलब ही युद्ध होता है और हम हर पल स्वाभिमान को बनाए रखने के लिये युद्ध करते हैं। यदि फिल्मकार घोषित करता कि मैं रानी पद्मिनी की वीरता पर फिल्म बना रहा हूँ तब सभी स्वागत करते लेकिन उसने ऐसा घोषित नहीं किया। इसका अर्थ है कि उसकी नियत ठीक नहीं है और जिसकी भी नीयत ठीक नहीं हो उसको स्वाभिमान का पाठ पढ़ाना आवश्यक है। 

Tuesday, November 14, 2017

मैं इधर जाऊँ या उधर जाऊँ


जब से अमेरिका का आना-जाना शुरू हुआ है तब से अमेरिका के बारे में लिख रही हूँ, 10 साल से न जाने कितना लिख दिया है और एक पुस्तक भी प्रकाशित हो चुकी है लेकिन जब भी अमेरिका आओ, ढेर सारी नयी बाते देखने को मिलती हैं। मेरा बेटा जब पहली बार अमेरिका आया था तब पहली बात फोन पर सुनायी दी थी - लग रहा है कि स्वर्ग में आ गया हूँ। हमने सदियों से स्वर्ग की कल्पना की है, हम सभी मरने के बाद स्वर्ग पाना चाहते हैं और सारे ही लोग इसी उधेड़बुन में जीवन जीते हैं। कुछ लोग तो इस धरती को ही नरक बनाने पर तुले हैं क्योंकि वे मरने के बाद जन्नत जाना चाहते हैं। सोचकर देखिये कि हम सब एक कल्पना लोक में जी रहे हैं, हमने एक कल्पना की और उसे पाने के लिये प्राणपण से जुटे हैं। लेकिन जब कोई युवा सच में जीता है तो उसे नकार देते हैं। हमने स्वर्ग नहीं देखा लेकिन जाने का प्रयास कर रहे हैं, हमारे युवा ने अमेरिका देखा है, उसे वही स्वर्ग लग रहा है और वह इसी जीवन में इसे पाना चाहता है तो क्या गलत कर रहा है! जैसी कल्पना हम स्वर्ग की करते हैं, वैसा ही अमेरिका है। बस वर्तमान में कुछ लोगों का फितूर देखकर लगता है कि कहीं कल्पना लोक के जन्नत के चक्कर में इसे मटियामेट ना कर दें।

लेकिन मुझे हमेशा एक  बात की शिकायत रही है कि हम किसी को भी आधा-अधूरा क्यों अपनाते हैं! यदि अमेरिका में रहने की चाहत है तो इसे पूरी तरह अपनाओ, यहाँ की सभ्यता को अपनाओ और यहाँ की संस्कृति को भी अपनाओ। लेकिन हमारे जीन्स, हमें ऐसा नहीं करने नहीं देते, बस भारतीय यहीं आकर दुविधा में पड़ जाते हैं। अमेरिका में "शक्तिशाली ही जीवित रहेगा" इस सिद्धान्त पर लोग चलते हैं और बच्चों को ऐसा ही सुघड़ बनाना चाहते हैं। बच्चे मजबूती से खड़े रहे, अपनी प्रतिभा के बल पर आगे बढ़े, सभी इसी बात पर चिंतन करते हैं। यहाँ के स्कूल भी ऐसी ही शिक्षा देते हैं जिससे बच्चों का सर्वांगीण विकास हो और कम से कम स्नातक की शिक्षा अवश्य लें। खेलों का यहाँ के जीवन में बहुत महत्व है। हमारे यहाँ खेल के मैदान खाली पड़े रहते हैं लेकिन यहाँ खेल के मैदानों में भारी भीड़ रहती है। परसो बॉस्केट बॉल के मैदान पर थे, ढेर सारे बच्चों को खेलते हुए देखना, आनन्ददायी था। सारे ही स्कूल-कॉलेज, खेल मैदानों से पटे हुए हैं, इसके अतिरिक्त भी न जाने कितने कोचिंग सेन्टर हैं। अधिकतर बच्चे कोई ना कोई खेल अवश्य खेलता है। भारतीय ही केवल शिक्षा को जीवन का आधार मानते हैं इसलिये यहाँ भी भारतीय कुछ पीछे रह जाते हैं। यहाँ बच्चे के लिये करने और सीखने को दुनिया की हर चीज उपलब्ध है, बस उसकी रुचि किसमें है और वह क्या कर सकता है, यह देखना मात-पिता का काम है। यहाँ की दुनिया एकदम ही बदली हुई है इसलिये इसे जब तक पूरी तरह से नहीं अपनाओगे तब तक संतुष्टि नहीं होती। आधा-अधूरा जीवन विरोधाभास पैदा करता है, यहाँ के सारे ही भारतीय दो नावों पर सवार होकर चलते हैं। दो संस्कृतियों का मेल कैसे सुखदायी बने, इस  बात का पता अभी कम ही है, लेकिन जिसने भी दोनों को तराजू के दो पल्लों में बराबर तौल लिया वह सुखी हो जाता है। नहीं तो लेबल लगा है – एबीसीडी का। मतलब नहीं समझे, मतलब है - अमेरिका बोर्न कन्फ्यूज्ड देसी। हर कोई पर यह गीत लागू होता है – मैं इधर जाऊं या उधर जाऊं, बड़ी मुश्किल में हूँ, मैं किधर जाऊं। चलिये आज की बात यहीं तक।